Monday, July 31, 2017

सांवर दइया की 25वीं पुण्यतिथि : समाचार






स्मृतिशेष साहित्यकार सांवर दइया की पच्चीसवीं पुण्यतिथि पर सुदर्शना आर्ट गैलरी में कवि-आलोचक डॉ. नीरज दइया के दो व्यंग्य संग्रहों “पंच काका के जेबी बच्चे” और “टांय टांय फिस्स” का लोकार्पण अध्यात्मिक गुरु महाराज रामराज टाक, प्रख्यात आलोचक डॉ. उमाकांत गुप्त एवं व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा ने किया।
लोकार्पण समारोह के अध्यक्ष महाराज रामराज टाक ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि कीर्तिशेष साहित्यकार सांवर दइया ने साहित्य की विविध विधाओं में लिखा और जो लिखा वह आज भी श्रेष्ठ और मानक प्रतिमान के रूप में स्मरणीय है। मुझे व्यक्तिगत रूप से हर्ष है कि डॉ. नीरज दइया ने अपने पिता की साहित्यिक परंपरा और विरासत को बहुत अच्छे ढंग से न केवल संभाला वरन उसे आगे भी बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि डॉ. नीरज दइया ने खुद को एक समर्थ लेखक के रूप में प्रमाणित किया है और इसी शृखंला में उनके आज लोकार्पित दोनों व्यंग्य संग्रह देखे जा सकते हैं। इनके व्यंग्य लेखन में सामाजिक दायित्व का गहरा बोध मिलता है जो हमें बेहद प्रभावित करता है।
मुख्य अतिथि प्रसिद्ध आलोचक डॉ. उमाकांत ने कृतियों पर बोलते हुए कहा कि डॉ. नीरज दइया के व्यंग्य आज की दौड़ भाग और तनावग्रस्त जिंदगी में राहत देने वाले हैं। इस दृष्टि से समकालीन हिंदी व्यंग्य में नीरज की विशिष्ट उपस्थिति कही जा सकती है। व्यंग्य के अर्थ और विभेद पर चर्चा करते हुए डॉ गुप्त ने कहा कि हास्य हिंसात्मक और मुस्कान अहिंसात्मक होती है, यह उल्लेखनीय है कि डॉ. नीरज दइया के व्यंग्य मुस्कान देने वाले अहिसंक व्यंग्य है। इनके व्यंग्यों की भाषा लालित्यपूर्ण कुरकुरेदार और मारक क्षमता वाली पाठकों को गुदगुदाती और प्रभावित करने वाली है।
विशिष्ठ अतिथि वरिष्ठ व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा ने कहा कि डॉ नीरज दइया समकालीन व्यंग्य परिदृश्य में अपनी सक्रिय उपस्थित दर्ज कराते हुए राष्ट्रीय स्तर के व्यंग्य आलेखों और चर्चाओं में शामिल हो रहे हैं। वे अपने अलहदा अंदाज में अपनी बात पंच काका के माध्यम से प्रस्तुत करते हैं वह उनके व्यंग्य लेखन की निजता और मौलिकता है। शर्मा ने कहा कि मौदूजा समय और समाज की विसंगतियों-विद्रूपताओं-विषमताओं को डॉ. नीरज तल्खी के साथ उद्धाटित ही नहीं करते वरन उनकी तह तक जाकर उनके कारणों की खोजने की ईमानदार कोशिश भी करते हैं।
मुक्ति के सचिव कवि-कहानीकार राजेन्द्र जोशी ने कार्यक्रम की पृष्ठभूमि पर बोलते हुए कहा कि व्यंग्यकार सांवर दइया और बुलाकी शर्मा ने जिस व्यंग्य परंपरा को बीकानेर में जीवंत किया उसका पोषण इन दिनों खूब हो रहा है। डॉ. नीरज दइया के लेखन के संबंध में अनेक बातें साझा करते हुए राजेन्द्र जोशी ने कहा कि डॉ. दइया एक लगनशील और सतत लिखने वाले लेखक है जिनस देश और समाज को खूब आशाएं है। जोशी ने कहा कि डॉ. नीरज के लेखन से सहज ही यह सीखा जा सकता है कि किसी भी लेखक को अपने समय की चिंताओं, विदूपताओं को दूरदृष्टि के साथ सोचना-विचारना और लिखना चाहिए।
स्तंभ लेखक और समीक्षक नदीम अहमद ‘नदीम’ ने दोनों व्यंग्य पुस्तकों पर समकेति विस्तार से पत्रवाचन प्रस्तुत करते हुए कहा कि डॉ. नीरज दइया की व्यंग्य रचनाओं में किसी को बख्सा नहीं गया है यहां तक कि खुद नीरज दइया ने व्यंग्य लेखक के रूप में खुद को भी नहीं बख्सा है। नदीम ने कहा कि अपने समय के महत्त्वपूर्ण व्यंग्यकार डॉ. नीरज दइया के संग्रहों में अनेक यादगार व्यंग्य रचनाएं मिलती है। कार्यक्रम के आरंभ में कवि कहानीकार राजाराम स्वर्णकार ने आगंतुकों का स्वागत किया।
डॉ. नीरज दइया ने अपनी रचना-प्रक्रिया साझा करते हुए कहा कि मैंने व्यंग्य लेखक के लिए व्यंग्य लेखन नहीं किया यह एक दौर रहा जब व्यंग्य लिखना मुझे मेरी आवश्यकता प्रतीत हुई और व्यंग्य लेखन हुआ। समारोह में डॉ. दइया ने व्यंग्य संग्रह ‘टांय टांय फिस्स’ संग्रह से व्यंग्य रचना ‘मीठी आलोचना का मीठा फल’ का पाठ किया जिसे श्रोताओं द्वारा खूब सराहा गया। डॉ. दइया बिना हंसे मुस्कुराए व्यंग्य पढते गए और श्रोता-दर्शक बीच बीच में मुदित होते मुस्कुराते रहे।
डॉ. नीरज दइया ने अपनी पुस्तकें साहित्यकार-पत्रकार मधु आचार्य ‘आशावादी’, कहानीकार भंवर लाल ‘भ्रमर’, कवि नवनीत पाण्डे, संपादक विनोद सारस्वत, कवयित्री श्रीमती डॉ. रेणुका व्यास एवं पूर्व प्राचार्य मोहम्मद अयूब को भेंट की। आयोजक संस्था द्वारा व्यंग्यकार डॉ. नीरज दइया और मंचस्थ अतिथियों का सम्मान शॉल ओढ़ाकर किया गया।
कार्यक्रम के अंत में खेल लेखक आत्माराम भाटी ने आभार प्रदर्शित किया तथा मुक्ति के सचिव राजेन्द्र जोशी ने कार्यक्रम का संचालन किया। कार्यक्रम में सर्वश्री सरदार अली पड़िहार, श्रीलाल जोशी, सरल विशारद, आनंद वी. आचार्य, डॉ मदन गोपाल लढ़ा, जगदीश सोनी, हीरालाल हर्ष, डॉ. प्रशांत बिस्सा, शीला व्यास, हरीश बी. शर्मा, मनीष कुमार जोशी, नमामी शंकर आचार्य, श्रवण कुमार, इकबाल हुसैन, मुकेश कुमार गौड़, संजय जनागल. डॉ. रचना शेखावत, गौरीशंकर प्रजापत, ओम दैया, भंवरलाल बडगूजर, मोहन थानवी, लोकेश आचार्य, चंद्रशेखर जोशी, मोईनूदीन कोहरी, असद अली असद, काशिम बीकानेरी आदि अनेक लेखक-कवि उपस्थित रहे।
=========
29/07/2017



========== 
26/07/2017




प्रख्यात साहित्यकार सांवर दइया की 25 वीं पुण्यतिथि पर रविवार 30 जुलाई को सुदर्शना कला दीर्घा, नागरी भंडार, होटल लालजी के सामने, स्टेशन रोड, बीकानेर में प्रातः 9.30 बजे उनके पुत्र कवि-आलोचक डॉ. नीरज दइया के दो व्यंग्य-संग्रहों- ‘पंच काका के जेबी बच्चे’ एवं ‘टांय टांय फिस्स’ का लोकार्पण होगा।
मुक्ति के सचिव कवि-कहानीकार राजेन्द्र जोशी ने बताया कि संस्था द्वारा आयोजित लोकार्पण समारोह की अध्यक्षता महाराज रामराज टाक करेंगे तथा मुख्य अतिथि महारानी सुदर्शना महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. उमाकांत गुप्त होंगे। जोशी ने बताया कि प्रसिद्ध व्यंग्यकार-कहानीकार बुलाकी शर्मा विशिष्ट अतिथि होंगे एवं लोकार्पित-कृतियों पर लेखक नदीम अहमद ‘नदीम’ का पत्रवाचन रहेगा।
कार्यक्रम के समन्वयक कवि नवनीत पाण्डे ने बताया कि कार्यक्रम में व्यंग्यकार सांवर दइया के अवदान पर चर्चा के अतिरिक्त उनकी प्रसिद्ध पुस्तक ‘इक्यावन व्यंग्य’ से चयनित व्यंग्य का पाठ भी रखा गया है।

 

लेबल

2011 2013 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणी-जातरा कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ कुंदन माली खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देवकिशन राजपुरोहित देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी राजेन्द्र शर्मा रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा संजय पुरोहित सतीश छिम्पा समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती सांवर दइया पुण्यतिथि साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 30 जुलाई,1992
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

कविता रो क

कविता रो क

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै

Google+ Followers